बॉलिवुड में ‘नेपोटिज्म’ को लेकर एक बड़ी बहस।

101

‘नेपोटिज्म’ का मतलब है भाई-भतीजावाद। इसका ये मतलब हुआ की ‘नेपोटिज्म’ उस हालात को कहते हैं जब अपने परिवार को ज्यादा तरजीह देकर नौकरी या कोई दूसरा फायदा दिया जाता है जिसमे योग्यता को आधार मानने के साथ साथ रिश्ते को भी आधार मान लिया जाता है। भारत में ‘नेपोटिज्म’ का अक्सर मुदा उठाया जाता है। बॉलीवुड पर हमेशा से ही ‘नेपोटिज्म’ के लिए आरोप लगते रहे हैं। आजकल तो हर तरफ नेपोटिज्म का हल्ला मचा हुआ है।

mainअभी हाल ही में करण जौहर और कंगना रानावत के केस में ‘Nepotism’ शब्द के कारण काफी बातें उठी हैं कुछ दिन पहले न्यूयॉर्क में हुए आइफा अवार्ड 2017 के दौरान ‘नेपोटिज्म’ के नाम पर कंगना रनाउत का मज़ाक बनाया गया। हुआ कुछ यूं कि अवार्ड लेने वरुण धवन आए और सैफ़ अली ख़ान ने कहा कि ये अवार्ड तुम्हें तुम्हारे पिता की वजह से मिला है। फिर वरुण ने कहा कि आप यहां अपनी मां की वजह से हैं और फिर करण जौहर ने कहा कि मैं यहां अपने पिता की वजह से हूं। फिर वरुण ने कहा कि करण आपकी मूवी में एक गाना है ‘बोले चूड़िया…बोले कंगना’ और फिर सबने कहा कि अरे बोले कंगना ना बोलो, कंगना ऐसे ही बहुत बोलती और फिर उसके बाद वही फूहड़ हंसी।

1
दरअसल निर्माता-निर्देशक और टीवी होस्ट करन जौहर के शो ‘कॉफ़ी विद करण’ पर कंगना रनौत ने उनके ऊपर आरोप लगाया कि फिल्म इंडस्ट्री में वह ‘भाई-भतीजावाद’ के मुखिया हैं। कंगना के इस आरोप के बाद बॉलिवुड में ‘नेपोटिज्म’ को लेकर एक बड़ी बहस छिड़ गई है। इसी बात पर पूरे स्क्रिप्टेड तरीके से कंगना रनाउत का मज़ाक बनाया गया। बाद में औपचारिकता निभाते हुए वरुण धवन, करन जोहर, सैफ अली खान ने कंगना से माफ़ी मांगी। कंगना वहां मौजूद नहीं थीं। इस मजाक पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इन तीनो सेलेब्स का कंगना पर कमेंट करने का मामला थमा नहीं था कि राइटर अपूर्व असरानी भी इसमें कूद पड़े और कंगना को ‘नेपोटिज्म’ का शिकार बता दिया।

3
अपूर्व असरानी ने ट्वीट किया, ‘कंगना ने अपनी आने वाली फिल्म के लिए अपने भाई को एडिशनल राइटर और अपनी बहन को मैनेजर के तौर पर रखा, क्या ये नेपोटिज्म नहीं है? लेकिन अपूर्व के ट्वीट का जवाब कंगना की बहन रंगोली ने दिया। रंगोली ने अपूर्व को टैग करते हुए कई ट्वीट किए। रंगोली ने लिखा, ‘मैं कंगना की बहन हूं, मेरे में भी क्षमता है। मेरा भाई पायलेट है प्लीज उसे इन सब में ना घसीटे।’ उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, एसिड सिर्फ आपके चेहरे को क्षति पहुंचाता है।

ne-2
यह कहानी सिर्फ सिनेमा की नहीं हैं। जब भी आप स्थापित परंपरा, घराने या दी हुई व्यवस्था को स्वीकार नहीं करते हैं तो वहां आपको अलग-थलग करने की कोशिश की जाएगी। आम ज़िंदगी में भी कई बार आप इसे महसूस कर सकते हैं। आप अपनी ही कोई कहानी याद कर लीजिए, जब स्थापित व्यवस्था से आपने समझौता ना किया हो और आप अकेले पड़ गए हों। आपने एक कहावत तो सुनी होगी – “लीके-लीके सब चले लीके चले कपूत, लीके छोड़ तीन चले शायर, सिंह, सपूत”

k
जो लोग जिंदगी अपनी शर्तों पर जीते हैं उन्हें अक्सर चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। और अगर आप एक बॉलीवुड एक्टर हैं और वो भी महिला एक्टर तो चुनौतियां कई गुना बढ़ जाती हैं। कंगना रनौत एक ऐसी ही अभिनेत्री हैं जिनका विवादों से पीछा नहीं छूटता है लेकिन हर कंट्रोवर्सी के बाद कंगना कमबैक करती हैं। वो भी शानदार अंदाज में। कंगना का स्ट्रगल किसी से नहीं छुपा है। इनका करियर ग्राफ किसी राइड से कम नहीं है मगर आज ये एक नेशनल अवार्डी हैं।

k3
आपको बता दें की ऐसे कई स्टार्स हैं जो बिना किसी बॉलीवुड बैकग्राउंड के इंडस्ट्री पर राज कर रहे हैं जैसे, शाहरुख़ ख़ान, अक्षय कुमार, प्रियंका चोपड़ा, दीपिका पादुकोण, अनुष्का शर्मा, विद्या बालन,…! और यह लिस्ट यहीं ख़त्म नहीं होती इसमें धीरे धीरे बहुत से नाम जुड़ रहे हैं और ख़ास कर एक्ट्रेसेज़ के। और कई ऐसे भी एक्टर, एक्ट्रेस  हैं की जो बॉलीवुड बैकग्राउंड से है फिर भी फिल्म इंडस्ट्री में अभी तक उनको सफलता हासिल नहीं हुई जैसे की अभिषेक बच्चन, कुमार गौरव, ईशा देओल और आलिया भट्ट, सोनम कपूर, टाइगर श्रॉफ,…।

Leave a Reply