दूरदर्शन लोगो के निर्माता देवाशीष भट्टाचार्य|

331

श्री देवाशीष भट्टाचार्य एक डिजाइन है| दूरदर्शन लोगो का डिज़ाइन उनके टीम ने 70 के दशक में डिज़ाइन किया था| भट्टाचार्य तब विज़ुअल कम्युनिकेशन, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन (एनआईडी) अहमदाबाद के छात्र थे। यह लोगो बनाने के लिए कक्षा अभ्यास के एक भाग के रूप में आठ ग्राफ़िक डिज़ाइन छात्रों को दिया गया था| “यिन और यांग ” के रूप में, उन्होंने अपने शिक्षक विकास सातवलेकर को अपना डिज़ाइन प्रस्तुत किया था। आठ छात्रों और छह संकाय सदस्यों द्वारा प्रस्तुत 14 डिज़ाइनों में से प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने उनके इस डिजाइन लोगो को चुना था| यह लोगो इंसानी आँख और चीन के यिन और यांग लोगो की तरह बनाया गया है| भट्टाचार्य अब साठ साल के हैं और ब्रांड पहचान पर सलाहकार के रूप में काम करते हैं| उन्हें बहुत गर्व महसूस होता है की उन्होंने भारत का पहला दूरदर्शन चैनल के लोगो का निर्माण किया है|

devashis-bhattacharyya-1

दूरदर्शन भारत की सार्वजनिक सेवा प्रसारक नई दिल्ली में 15 सितंबर 1959 को प्रसार भारती देश के सार्वजनिक सेवा प्रसारक के हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया था। एक छोटे ट्रांसमीटर की मदद से एक प्रयोगात्मक प्रसारण के रूप में शुरू किया गया और एक अस्थायी स्टूडियो भारत के सबसे बड़े प्रसारण संगठनों में से एक बन गया है। स्टूडियो और संचरण विकास के मामले में दूरदर्शन को दुनिया के सबसे बड़े प्रसारण संगठनों में से एक माना जाता है|

devashis-bhattacharyya-6

अभी दूरदर्शन एक नए लोगो की तलाश में है जो दूरदर्शन से जुड़ी पुरानी यादों को याद कराती है और नए भारत की आकांक्षाओं को प्रतिबिंबित करना चाहती है। दूरदर्शन वेबसाइट के अनुसार लोगो डिज़ाइन विजेता को 1 लाख रुपये का पुरस्कार भी दिया जायेगा।

devashis-bhattacharyya-2

devashis-bhattacharyya-5

devashis-bhattacharyya-2

Leave a Reply