भारतीय चायवाली बनी ‘बिजनेस वूमन ऑफ द ईयर’

365

0सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के ‘चायवाले’, सिंगापुर का ‘सिक्युरिटी ऑफिसर’ और नेपाल की ‘तरकारीवाली’ के बाद अब भारत की ‘चायवाली’ छा गईं हैं। भारतीय चायवाली अपनी खूबसूरती नहीं बल्कि अपने काम की वजह से फेमस हो गईं। ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में रहने वाली चंडीगढ़ में जन्मी 26 साल की भारतीय उपमा वरदी ने बिजनेस वूमेन ऑफ द ईयर का खिताब जीता है। उन्हें इंडियन ऑस्‍ट्रेलियन बिजनेस एंड कम्‍युनिटी अवॉर्ड्स यानी IABCA ने बिजनेस वूमन ऑफ द ईयर 2016 के खिताब से नवाजा है। भारतीय मूल की उपमा पेशे से वकील हैं और चाय की शौकीन। उपमा फुल टाइम चाय का रेस्‍टोरेंट या कैफे नहीं चलातीं बल्कि वो चाय का ऑनलाइन बिजनेस करती हैं। उपमा चाय का ऑनलाइन स्‍टोर भी चलाती हैं।

1-1
उपमा वरदी ने ऑस्ट्रेलिया में चाय का बिजनस शुरू कर ‘चायवाली’ के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। उपमा के दादा जी चंडीगढ़ में देसी दवाएं बेचते थे। उन्होंने ही उपमा का परिचय आयुर्वेदिक चाय के फायदों से कराया था। उपमा को चाय बनाने का इतना शौक था कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में एक चाय की दुकान खोल ली। उनके हाथों की चाय लोगों को इतनी पसंद आई कि देखते ही देखते चायवाली के नाम से एक ब्रैंड ही तैयार हो गया। चायवाली के नाम से उनकी चाय ऑस्ट्रेलिया के बाजार में खूब धड़ल्ले से बिक रही है।

1
ऑस्ट्रेलिया में हुए ‘टी फेस्टिवल’ में उपमा को विशेष तौर पर बुलाया गया था। उन्होंने मीडिया से कहा, ‘मैं ऑस्ट्रेलिया के लोगों को बताना चाहती हूं कि भारतीय चाय का स्वाद दुनिया के बाकी देशों की चाय से अलग है, क्योंकि हम भारतीय चाय को और स्वादिष्ट बनाने के लिए उसमें इलायची, लौंग तथा कई तरह की बूटियों का प्रयोग करते हैं।’

2

3

4

5

6

Leave a Reply