तुलसी सेहत के लिए लाभकारी|

51

तुलसी सांस की बीमारी, मुंह के रोगों, बुखार, दमा, फेफड़ों की बीमारी, हृदय रोग और तनाव से छुटकारा दिलाती है| इसके साथ ही रिप्रोडक्टिव (प्रजनन) डिजीज़ में भी यह काफी गुणकारी है| यह इंपोटेंसी, इरेक्शन और डिलीवरी के बाद होने वाले दर्द में यह काफी लाभकारी है|

holy-basil-6

पतंजलि आयुर्वेद के आचार्य बालकृष्ण के अनुसार, तुलसी कई रोगों में रामबाण औषधि की तरह काम करती है| उन्होंने कहा कि रिप्रोडक्टिशन, स्किन, फीवर और टॉक्सिन थेरेपी में तुलसी का प्रयोग लाभकारी है| तुलसी के प्रयोग से सस्ता और सुलभ तरीके से उपचार किया जा सकता है|

holy-basil-5

इरेक्शन के लिए : 2 से 4 ग्राम तुलसी से बना पाउडर और जिमीकंद पाउडर को मिलाकर 125-250 मिलीग्राम की मात्रा में पान में रखकर खाने से इरेक्शन की समस्या दूर होती है|

holy-basil-3

डिलीवरी के बाद होने वाला दर्द : तुलसी के पत्ते के रस में पुराना गुड़ और खांड मिलाकर डिलीवरी होने के बाद तुरंत पिलाने से डिलीवरी के बाद होने वाला दर्द दूर होता है|

holy-basil-12

इंपोटेंसी : तुलसी के बीजों का पाउडर में  1 से 3 ग्राम की मात्रा में गुड़ मिलाकर, गाय के दूध के साथ लगातार लेते रहने से एक महीने या छह सप्ताह में लाभ होता है|

holy-basil-10

स्किन संबंधी प्रॉब्लम : लेप्रसी (कुष्ठ) रोग : 10-20 तुलसी के पत्ते के रस को रोजानी सुबह में पीने से लेप्रसी में लाभ होता है| तुलसी के पत्तों को नींबू के रस में पीसकर, हर्प्स, लेप्रसी आदि पर लेप करने से लाभ होता है|

holy-basil-15

सफेद दाग, झुर्रियां : तुलसी के पत्ते का रस, नींबू रस, कसौदी पत्र तीनों को बराबर-बराबर लेकर उसे तांबे के बर्तन में डालकर चौबीस घंटे के लिए धूप में रख दें| गाढ़ा हो जाने पर रोगी को लेप करने से दाग और अन्य स्किन प्रॉब्लम्स दूर होती हैं, इसे चेहरे पर भी लगाया जाता है|

SACRED BASIL Holy Basil Food ingredients, spices, herbs, Thailand

साइनस : तुलसी के बीजों को पीसकर लेप करने से सूजन और साइनस में आराम मिलता है|

holy-basil-14

सर्दीजुकाम : 20 ग्राम तुलसी और उसके बीजों के पाउडर में 40 ग्राम मिश्री मिलाकर बारीक पीस लें, इस मिश्रण को 1 ग्राम की मात्रा में सर्दियों में कुछ दिन सेवन करने से सर्दी-जुकाम जैसे रोगों से बचाव होता है| कमजोरी दूर होती है, शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है|

holy-basil-13

मलेरिया : तुलसी का पौध मलेरिया प्रतिरोधी है| मलेरिया में तुलसी पत्तों की चाय तीन-तीन घंटे के अंतर से सेवन करें|

holy-basil-8

टायफॉयड : 10 तुलसी पत्तों और 1 ग्राम जावित्री को पीसकर शहद के साथ चटाने से लाभ होता है|

holy-basil-11

फीवर : तुलसी के पत्ते, जीरा, छोटी पीपल और शक्कर, चारों को कूटकर सुबह-शाम देने से लाभ होता है|

holy-basil-4

स्वामी रामदेव का आजमाया नुस्खा :

तुलसी के 7 पत्ते और 5 लौंग लेकर एक गिलास पानी में पकाएं| पानी पककर जब आधा शेष रह जाए, तब थोड़ा सा सेंधा नमक डालकर गर्म-गर्म पी जाएं यह काढ़ा पीकर कुछ समय के लिए चादर ओढ़कर सो जाएं, इससे पसीना आने लगेगा और फीवर तुरंत उतर जाएगा| साथ ही सर्दी, जुकाम और खांसी भी ठीक हो जाती है| इस काढ़े को दिन में दो बार 2-3 दिन तक ले सकते हैं|

Leave a Reply