मानसून में नहाते समय कैसे रखें ध्यान |

180

जून माह के पहले या दूसरेही हफ्ते में मानसून की सुरुवात हो जाती है, इस दौरान बारिश की वजह से प्रकृति में कई चीजों में बदलाव हो जाते है , जैसे हवा, पानी और मौसम में कई बदलाव दिखाए देते है, लेकिन स्वास्थ की बात करें तो हम सभी को बारिश की वजह से कई परेशानिया उठाने पड़ती है| हम सभी को मानसून में कई बीमारिया होने की संभावना होती है, इसलिए इन बीमारियों से बचने की हमे सावधानिया बरतनी चाहिए| सबसे पहले तो मानसून में बीमारी का कारण पानी होता है, पानी की वजहसे ही मानसून में कई बीमारिया फैलती है| पानी के वजह से मानसून हम सभी को नुकसानदायक हो न जाये इसका ध्यान रखना चाहिए|  मानसून में गंदे पानी के वजह से अपने शरीर के त्वचा, आँखों और बालो के ऊपर असर हो सकता है| तो आगे जानते है मानसून में बारिश का पानी कितना साफ़ है और नहाते समय कैसे ध्यान रखना चाहिए …

साफ नहीं होता है बारिश का पानी

monsoon-shower-1आमतौर पर लगता की पानी जमीन के सम्पर्क में आने से पहले शुद्ध होता है, यहाँ तक की लोग सोचते है की इसका इस्तेमाल पीने में भी कर सकते है, सामान्य पानी का PH7 होता है, 7PH वाला पानी साफ माना जाता है, लेकिन बारिश का पानी अम्लीय होने के कारण उसका PH कम होता है, वातावरण में मौजूद कार्बन डाई ऑक्साइड के पानी में मिल जाने से अम्लीय हो जाता है, वायुमंडल में मौजूद सल्फर डाई ऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड पानी को प्रदूषित बनाते है, इसलिए आजकल बारिश का पानी शुद्ध नहीं होता है|

भीगने पर नहाएं

monsoon-shower-3

बारिश में भीगने पर एक बार साफ पानी से जरूर नहाएं, इससे शरीर पर लगे हानिकारक तत्व साफ जाते है |

आँखों का ख्याल रखे

monsoon-shower-4

बारिश में हाथो में कई तरह के रोगाणु चिपके होते है, जो न चाहते हुए भी आँखों में चले जाते है, इसके कारण आँखों में संक्रमण हो जाता है, आँखों की देखभाल तब सुरु होती है, जब आप नियमित रूप से आँखों को धोते है, इससे आंखे साफ और सुरक्षित होती है |

बालों की देखभाल

monsoon-shower-5

ज्यादा देर तक सर का भीगा रहना बालों की अनेक समस्याओ को जन्म देता है, बाल भीगने पर उन्हें शैम्पू से जरूर धोएं अन्यथा बारिश के पानी से पैदा हुई नमी फंगस का रूप ले लेगी|

Leave a Reply