दीवाली के दिन ये काम ना करे, तो रूठ जाएंगी लक्ष्‍मी हो जाएंगे कंगाल|

49

दीवाली एक धार्मिक, विविध रंगों के प्रयोग से रंगोली सजाने, प्रकाश औऱ खुशी का, अंधकार हटाने का, मिठाईयों का, पूजा आदि का त्यौहार है, जो पूरे भारत के साथ साथ देश के बाहर भी कई स्थानों पर मनाया जाता है। यह रोशनी की कतार या प्रकाश का त्यौहार कहा जाता है। यह सम्पूर्ण विश्व में मुख्यतः हिन्दूओं और जैनियों द्वारा मनाया जाता है। उस दिन बहुत से देशों जैसे सिंगापुर, सूरीनाम, नेपाल, मॉरिशस, त्रिनिदाद और टोबैगो, श्रीलंका, म्यांमार, मलेशिया, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया में राष्ट्रीय अवकाश होता है।

diwali-4

दीवाली की रात को महानिशा की रात्रि भी कहा जाता है| इस दिन मां लक्ष्मी धरती पर आती हैं| इसलिए इस दिन ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए जिससे वे रूठ जाएं| दीवाली को देर तक ना सोते रहें| पंडितों का कहना है कि इस दिन सुबह यानी ब्रह्म मुहूर्त में उठना चाहिए| इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर को धन से भर देती हैं|

diwali-19

दीवाली के दिन शाम के समय नहीं सोना चाहिए| सोने से दरिद्रता घर आती है| केवल वही आराम करें जो बीमार हों| लक्ष्मी रूठकर वापिस चली जाती हैं|

diwali-8

नशा ना करें| अक्सर लोग शराब का सेवन करते हैं| पर पंडित कहते हैं कि इस दिन नशे से दूर रहना चाहिए| किसी भी तरह का नशा करने से घर में गरीबी-दरिद्रता आती है|

diwali-9

बड़ों का अपमान ना करें| किसी भी हालत में ऐसा ना हो| दीवाली के शुभ दिन बड़ों का अपमान करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं| इस दिन बड़ों की सेवा से सुख-समृद्धि मिलती है|

diwali-6

दीवाली के दिन लड़ाई-झगड़ा ना करें| इस दिन घर में लड़ाई-क्लेश ना हो| अगर ऐसा होता है तो उस दिन घर पर लक्ष्मी नहीं आतीं| उनकी कृपा नहीं मिलती|

diwali-2

दीवाली के दिन घर की सफाई करना ना भूलें| जहां साफ-सफाई होती है वहां देवी-देवताओं का वास होता है| कहा जाता है कि मां लक्ष्मी वहीं आती हैं जहां साफ-सफाई हो| घर के बाहर रंगोली बनाएं| फूलों की माला से घर को सजाएं|

diwali-17

दीवाली के दिन क्रोध ना करें| ये खुशियों-रोशनी का त्यौहार है| इस दिन अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें| गुस्से पर काबू रखें|

diwali-7

Leave a Reply