भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के बारे में कुछ अहम बातें|

215

भारत के नवनिर्वाचित १४ वे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 20 जुलाई 2017 चुने गए, इनका 25 जुलाई 2017 को संसद भवन सेंट्रल हॉल में शपथ ग्रहण का समारोह हुआ| देश के नए राष्ट्रपति के तौर शपथ लेते समय रामनाथ कोविंद बड़े भावुकता से अपनी कुछ पुराणी दिनों की यादें संसद भवन में बताई और राष्ट्रपति होने पर पुरे देशवासियों को धन्यवाद किया| इस बार का राष्ट्रपति चुनाव काफी कांटे का था और यह चुनाव लोगोँ में बड़े चर्चे रहा था| लेकिन आप क्या जानते हो राष्ट्रपति के बारे में, एक छोटे से गांव का आम व्यक्ति से लेकर देश का प्रथम नागरिक बनने का सफर रामनाथ कोविंद काफी दिलचस्प रहा है|

रामनाथ कोविंद के बारे में अहम बातें:

ramnath-kovind-3रामनाथ कोविंद का जन्म 1 अक्टूबर 1945 में कानपूर (उत्तरप्रदेश) के डेरापुर तहसील के छोटे से गांव देहात में हुआ| इनके पिता नाम स्वर्गीय माइकू लाल तथा माता का नाम स्वर्गीय कलावती है, कोविंद की शादी 30 मई 1974 को सविता कोविंद से हुई थी, इनके बेटे नाम प्रशांत हैं और बेटी का नाम स्वाति है|

ramnath-kovind-5रामनाथ कोविंद का सम्बन्ध कोरी (कोली) जाति से है जो उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के अंतर्गत आती है। रामनाथ कोविंद उत्तर प्रदेश से बीजेपी के दलित नेता है| छात्र जीवन में कोविंद ने अनुसूचित जाति, जनजाति और महिलाओं के लिए काम किया है, इसके अलावा वकील पेशा होने वजह से कोविंद ने गरीब दलितों के लिए मुफ्त में क़ानूनी लड़ाई लड़ी |

New Delhi: Chief Justice of India, Justice JS Khehar administers oath of office to Ram Nath Kovind as the 14th President of India at a special ceremony in the Central Hall of Parliament in New Delhi on Tuesday. PTI Photo by Shahbaz Khan (PTI7_25_2017_000022A)कोविंद ने कानपुर यूनिवर्सिटी से बीकॉम और एलएलबी की पढ़ाई की है| गवर्नर ऑफ बिहार की वेबसाइट के मुताबिक कोविंद दिल्ली हाई कोर्ट में 1977 से 1979 तक केंद्र सरकार के वकील रहे थे, 1980 से 1993 तक केंद्र सरकार के स्टैंडिग काउंसिल में थे| दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में इन्होंने 16 साल तक प्रैक्टिस की, कोविंद 1971 में दिल्ली बार काउंसिल के लिए नामांकित हुए थे| रामनाथ कोविंद आदिवासी, होम अफ़ेयर, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, सामाजिक न्याय, क़ानून न्याय व्यवस्था और राज्यसभा हाउस कमेटी के भी चेयरमैन रहे है| कोविंद नें (UPSC) संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा भी तीसरे प्रयास में ही पास कर ली थी।

ramnath-kovind-4रामनाथ कोविंद दो बार राज्यसभा के सदस्य रहे है| साल 1994 और 2000 में कोविंद उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के लिए सांसद चुने गए. वह लगातार 12 साल तक राज्यसभा सांसद रहे, वे कई संसदीय समितियों के सदस्य भी रहे हैं | ८ अगस्त २०१५ को बिहार के राज्यपाल के पद पर उनकी नियुक्ति हुई थी।

ramnath-kovind-2रामनाथ कोविंद राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के सदस्य है और देश की सबसे बड़ी पार्टी भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता भी रह चुके है| कोविंद ‘भाजपा दलित मोर्चा’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष और ‘अखिल भारतीय कोली समाज’ के अध्यक्ष भी चुके है। वर्ष १९८६ में दलित वर्ग के कानूनी सहायता ब्युरो के महामंत्री भी रहे है|

ramnath-kovind-7राष्ट्रपति चुनाव में उत्तर प्रदेश राज्य से कोविंद दूसरे राष्ट्रपति चुने गए है, इसके पहले मोहम्मद हिदायतुल्लाह उत्तर प्रदेश राज्य से राष्ट्रपति पद के चुने गए थे |

Leave a Reply