मैरी कॉम ने रचा इतिहास, एशियाई चैम्पियनशिप में जीता 5वां गोल्ड मेडल|

102

पांच बार की विश्व चैम्पियन भारतीय मुक्केबाज एम सी मैरी कॉम ने एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में 48 किलोवर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है| मैरी कॉम ने अपनी उत्तर कोरियन प्रतिद्वंदी किम हयांग मी को 5-0 से हराकर एशियाई गोल्ड वापस देश में लाने का सपना पूरा कर लिया है| गौरतलब है कि मणिपुर की मुक्केबाज, जो तीन बच्चों की मां हैं, ने करीब एक साल बाद मुक्केबाजी रिंग में वापसी की है|

mary-kom-7

यह 2014 एशियाई खेलों के बाद मैरी कॉम का पहला अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक है और एक साल में उनका पहला पदक है| 35 बरस की मैरी कॉम का सामना मी के रूप में सबसे आक्रामक प्रतिद्वंद्वी से था लेकिन वह इस चुनौती के लिये तैयार थी| अब तक पहले तीन मिनट एक दूसरे को आंकने में जाते रहे थे लेकिन इस मुकाबले में शुरूआती पलों से ही खेल आक्रामक रहा|

mary-kom-3

मैरी कॉम ने अपनी प्रतिद्वंद्वी के हर वार का माकूल जवाब दिया| दोनों ओर से तेज पंच लगाये गए| मैरी कॉम उसके किसी भी वार से विचलित नहीं हुई और पूरे सब्र के साथ खेलते हुए जीत दर्ज की| इससे पहले मैरी कॉम ने मंगलवार को एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फाइनल में प्रवेश किया| मैरी कॉम ने जापान की मुक्केबाज तसुबासा कोमुरा को 5-0 से मात देकर फाइनल में जगह बनाई| अपने अनुभव से उन्होंने इस मैच में जापान की मुक्केबाज को आसानी से हरा दिया था|

mary-kom-8

इससे पहले मैरी कॉम के नाम 4 गोल्ड और एक सिल्वर मेडल था। उन्होंने इस टूर्नामेंट में 2003, 2005, 2010 और 2012 में गोल्ड मेडल जीता थे, 2008 में उन्हें सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा था। रियो ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाई नहीं कर पाने वाली मैरी कॉम ने रिंग में एक बार फिर जोरदार वापसी की है।

 

India's Chungneijang Mery Kom Hmangte (red) fights with Kazakhstan's Zhaina Shekerbekova (blue) during their women's fly (48-51kg) boxing match final at the Seonhak Gymnasium during the 2014 Asian Games in Incheon October 1, 2014. REUTERS/Kim Kyung-Hoon (SOUTH KOREA - Tags: SPORT BOXING) - RTR48FQB

मणिपुर की मुक्केबाज मेरी कॉम ने करीब एक साल बाद मुक्केबाजी रिंग में गोल्डन वापसी की हैं| राज्यसभा सांसद मेरी कॉम पांच साल तक 51 किलो में भाग लेने के बाद 48 किलोवर्ग में लौटी हैं| हालांकि, अपने अनुभव से उन्होंने फाइनल में उत्तर कोरियाई मुक्केबाज की चुनौती ध्वस्त कर डालीं|

mary-kom-4

Leave a Reply